सिकन्दर लोदी के विषय में संक्षिप्त टिप्पणी लिखिये।

0
72

सिकन्दर लोदी, लोदी वंश का सबसे प्रतिभाशाली सुल्तान था। वह वीर साहसी और दूरदर्शी शासक था। वह अपने पिता बहलोल लोदी की मृत्यु के पश्चात् सन् 1489 ई. में सुल्तान बना। उसने सदैव दूरदर्शिता और कूटनीतिज्ञता से कार्य किया। उसने अपनी उपलब्धियों से लोदी वंश के गौरव को बढ़ाया। उसने जौनपुर, चिनार, विहार आदि के शासकों और अफगानों के विद्रोहों का दमन किया। उसने आगरा नगर बसाकर अपनी राजधानी को दिल्ली से आगरा स्थानान्तरित किया। वह प्रजा का हितैषी और विद्वानों का आश्रयदाता था। सिकन्दर लोदी ने कृषि और व्यापार को प्रोत्साहित किया जिससे प्रजा सुखी और सम्पन्न हुई। सिकन्दर एक योग्य सेना नायक भी था। उसने बिहार तिरहुत, बयाना, धौलपुर और चन्देरी पर विजय प्राप्त की और अपने साम्राज्य का विस्तार किया। उसने अफगान विद्रोहियों पर नियन्त्रण बनाये रखा। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि सिकन्दर लोदी वंश का महानतम शासक था।

मोहनजोदड़ों पर टिप्पणी लिखिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here