भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, Dr. Rajendra Prasad Biography

0
40

स्वतन्त्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति का गौरव प्राप्त करने वाले डॉ. राजेन्द्र प्रसाद सादगी, सत्यनिष्ठा, पवित्रता, योग्यता तथा विद्वता की मूर्ति थे। आपने ही भारतीय ऋषि परम्परा को पुनर्जीवित किया तथा सादगी तथा सरलता के कारण किसान जैसा व्यक्तित्व पाकर भी पहले राष्ट्रपति बनने का गौरव प्राप्त किया।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, Dr. Rajendra Prasad Biography

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जन्म परिचय एवं शिक्षा-

राजेन्द्र बाबू जैसे महान व्यक्ति का जन्म 3 दिसम्बर सन् 1884 ई. को बिहार राज्य के ‘सरना’ जिले के एक सुप्रतिष्ठित एवं संभ्रान्त कायस्थ परिवार में हुआ था। आपके पूर्वज तत्कालीन हथुआ राज्य के दीवान रह चुके थे। आरम्भिक शिक्षा ‘उर्दू’ भाषा में प्राप्त करने के पश्चात् उच्च शिक्षा के लिए आप कोलकाता आ गए। प्रारम्भ से अन्त तक आपने प्रत्येक परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। इसके बाद आप वकालत करने लगे तथा कुछ ही दिनों में आपकी गणना उच्च श्रेणी के उच्चतम वकीलों में की जाने लगी।

युगपुरूष-लाल बहादुर शास्त्री जीवन परिचय, निबंध

देश प्रेम की भावना-

‘रोलट एक्ट’ से आहत होकर आपका स्वाभिमानी मन देश की स्वतन्त्रता के लिए बेचैन हो उठा तथा गाँधी जी द्वारा चलाए गए ‘असहयोग आन्दोलन’ में भाग लेकर आप देश सेवा में जुट गए। प्रारम्भ में आप राष्ट्रीय नेता गोपाल कृष्ण गोखले से बहुत प्रभावित थे तथा उसके बाद महात्मा गाँधी के व्यक्तित्व की सादगी ने तो जैसे आपको पूर्णरूपेण अपने वश में कर लिया था। आपको महान बनाने में इन दोनों महापुरुषों का विशेष योगदान रहा है। सन् 1905 पूना में स्थापित ‘सर्वेण्ट्स ऑफ इण्डिया’ सोसायटी की ओर आकर्षित होते हुए भी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद अपनी अन्तःप्रेरणा से गाँधी जी द्वारा चलाए जा रहे कार्यक्रमों के प्रति समर्पित हो गए तथा आजीवन गाँधी जी द्वारा बताए पथ पर ही चलते रहे। राजेन्द्र प्रसाद न केवल विनम्र तथा विद्वान ही थे, वरन् अपूर्व सूझ-बूझ एवं संगठन शक्ति से सम्पन्न व्यक्ति थे। अपनी लगन एवं दृढ़ इच्छाशक्ति से शीघ्र ही आप गाँधीजी के प्रिय पात्रों के साथ-साथ शीर्षस्थ राजनेताओं में भी महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त कर चुके थे।

पं. जवाहरलाल नेहरू का जीवन परिचय Pandit Jawaharlal Nehru ka jeevan parichay

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जी का राजनीतिक जीवन-

प्रारम्भ में आपका कार्यक्षेत्र बिहार राज्य रहा। आपने सदैव बिहार के किसानों को उनके उचित अधिकार दिलाने के लिए संघर्ष किया। सन् 1934 में बिहार राज्य में आने वाले भूकम्प के कारण उत्पन्न विनाशलीला के मौके पर आपने पूरी लगन तथा कुशलता से पीड़ित जनता को राहत पहुँचाई जिससे पूरा बिहार राज्य आपका अनुयायी बन गया।

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद अखिल भारतीय साहित्य सम्मेलन के साथ आजीवन जुड़े रहें। उन्होंने सदा ही गाँधी जी का समर्थन किया। एक निष्ठावान कार्यकर्ता एवं उच्चकोटि के राजनेता होने के कारण आप दो बार अखिल भारतीय कांग्रेस दल के सर्वोच्च पद ‘अध्यक्ष पद’ पर भी निर्वाचित किए गए। कांग्रेस के समर्थकों का मत है कि जैसा सौहार्दपूर्ण वातावरण कांग्रेस दल में राजेन्द्र बाबू के समय में था, उससे पहले या बाद में आज तक कभी भी नहीं रहा। आप छोटे बड़े सभी कार्यकर्त्ताओं की समस्या ध्यानपूर्वक सुनते थे तथा उसका समाधान भी निकाल लेते थे।

राजेन्द्र प्रसाद राष्ट्रपति पद पर सुशोभित –

लगातार अनगिनत संघर्षों के परिणामस्वरूप सन् 1947 ई. को जब भारतवर्ष स्वतन्त्र हुआ, तब देश का संविधान तैयार करने वाले दल का अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को ही चुना गया। भारत का संविधान बन जाने के पश्चात् 26 जनवरी, सन् 1950 को जब उसे लागू और घोषित किया गया, तब उसकी माँग के अनुसार स्वतन्त्र गणतन्त्र का प्रथम राष्ट्रपति बनने का गौरव डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को भी प्राप्त हुआ। निःसन्देह आप ही इस पद के लिए सर्वाधिक सक्षम एवं उचित अधिकारी थे। सन् 1957 में पुनः आपने राष्ट्रपति पद को सुशोभित किया ।

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जीवन परिचय Raashtrapita Mahatma Gandhi Biography

राष्ट्रपति भवन के वैभवपूर्ण वातावरण में रहकर भी आपने अपनी सादगी तथा पवित्रता को कभी भी नहीं छोड़ा। यद्यपि हिन्दी को ‘राष्ट्रभाषा’ घोषित करने जैसे कुछ विषयों पर आपका तत्कालीन प्रधानमन्त्री से कुछ मतभेद भी अवश्य हुआ परन्तु आपने अपने पद की गरिमा को सदैव बनाए रखा। दूसरी बार का राष्ट्रपति काल समाप्त कर आप बिहार के ‘सदाकत’ आश्रम में जाकर रहने लगे। सन् 1962 में उत्तर-पूर्वी सीमांचल पर चीनी आक्रमण का सामना करने का उद्घोष करने के पश्चात् आप अस्वस्थ रहने लगे तथा आपका देहावसान हो गया। मरणोपरान्त आपको ‘भारत रत्न’ से विभूषित किया गया। हम भारतीय सदा आपके समक्ष नतमस्तक रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here