राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद एवं निर्देशन संवार्य क्या है?

0
35

राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद की स्थापना 1 सितम्बर 1961 में स्वायत्त व्यवस्था के रूप में नई दिल्ली में की गई। मानव संसाधन भारत मंत्रालय की शैक्षिक परामर्श संस्था के रूप में बनाई गई। भारत शिक्षा विभाग के विद्यालयों के लिये शिक्षा नीति एवं कार्यक्रमों का प्रारूप बनाती है। मंत्रालय इस परिषद के विशेषज्ञों से परामर्श भी करती है।

इस परिषद् के अन्तर्गत शिक्षा मनोविज्ञान, निर्देशन एवं परामर्श, अध्यापक-शिक्षा विभाग, शिक्षा तकनीकी केन्द्र आदि विभाग भी खोले गये। जिससे प्राथमिक, माध्यमिक शिक्षा, उच्च माध्यमिक शिक्षा में गुणवत्ता लाने का प्रयास किया जाता है। निर्देशन व परामर्श विभाग के अनुसन्धान एवं निर्देशन एवं परामर्श का प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रतिभाशाली बालकों को पहिचानने हेतु परीक्षण की व्यवस्था की जाती है प्रतिभाशाली बालकों हेतु अनुदेशन सामग्री तैयार की जाती है और इन्हें छात्र वृत्ति भी दी जाती है। यह विभाग राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यक्रमों को लागू करने का भरसक प्रयत्न करता है।

अनुलोम व प्रतिलोम विवाह क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here