प्राक्कलन समिति(Estimate Committee) क्या है ?

प्राक्कलन समिति (Estimate Committee)- प्राक्कलन समिति में 30 सदस्य होते. है जिनका चयन सदन करता है। यह समिति प्रति वर्ष गठित की जाती है। निर्वाचन आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के अनुसार होता है। कोई मंत्री इस समिति का सदस्य नहीं हो सकता। यदि समिति का कोई सदस्य मंत्री बन जाता है तो उसे समिति से पदत्याग करना पड़ता है। इस समिति का कार्य सरकार की आय-व्यय के अनुमानित आँकड़ों का परीक्षण करना होता है। यह उन ऑकड़ों का परीक्षण करती है जिन्हें यह उपयुक्त समझती है या सदन या स्पीकर द्वारा जिनका परीक्षण करने का विशेष अनुरोध किया गया हो।

समिति-

  1. इस विषय में विवरण देती है कि अनुमानिक आँकड़ों में अन्तर्निहित नीति के अनुरूप वित्तव्यय, कुशलता और प्रशासकीय सुधार के क्या उपाय किए जा सकते हैं।
  2. प्रशासन में कुशलता लाने व बचत करने के प्रयोजन से वैकल्पिक नीतियों के भी सुझाव दे सकती है।
  3. परीक्षण करती है कि अनुमानों में निहित नीति की परिधि में धन व्यय का वितरण उपयुक्त है या नहीं।
  4. जिस रूप में आकलन संसद के सामने रखे जाने चाहिए उस प्रारूप का सुझाव देती है।

“भारतीय संविधान का स्वरूप संघात्मक है, परन्तु उसकी आत्मा एकात्मक।” इस कथन की व्याख्या कीजिए।

प्राक्कलन समिति में राज्य सभा के सदस्य नहीं होते। इसके 30 सदस्य केवल लोकसभा से चुने जाते हैं। समिति एक वर्ष के लिए चुनी जाती है। चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली द्वारा होता है ताकि दलों को अपनी सदस्य संख्या के अनुसार उस समिति में प्रतिनिधित्व मिल सके।

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Scroll to Top