पर्यावरण शिक्षा की अवधारणा की चर्चा कीजिये।

0
93

पर्यावरण शिक्षा की अवधारणा

इसमें कोई संदेह नहीं कि ‘पर्यावरण की गुणवत्ता’ (Quality of Environemnt) के बारे में चिंतन सर्वप्रथम वैज्ञानिकों ने किया और धीरे-धीरे समाज के सभी वर्गों में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के देशों में इसने स्थान पाया और व्यापक रूप से सोचने और विचार-विमर्श का विषय बन गया। पिछले कुछ वर्षों से आम जनता ने भी इसमें भागीदारी निभाई और पर्यावरण से संबंधित समस्याओं के हल खोजने में रुचि व्यक्त की। यद्यपि यह रुचि एक आवश्यकता तो थी लेकिन पर्यावरण गुणवत्ता को प्राप्त करने के लिए काफी नहीं थी अतः कुछ प्रबुद्ध लोगों ने पर्यावरण संकटों को दूर करने के लिए इनमें अपने आपको वास्तव में शामिल करने का सुझाव दिया।

लेकिन निकल्सन (Nicholson) ने, जिन्होंने पर्यावरणीय भविष्य के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन फिनलैण्ड 29 जून 1971 (International Conference on Environment Future Finland-29 June 1971) में अपना पत्र प्रस्तुत किया था, बताया था कि पर्यावरण की गुणवत्ता के लिए दो बातें आवश्यक है

  1. तथ्यों की जानकारी (Knowledge of the Facts) और
  2. अभिवृत्तियों में परिवर्तन (Change in Attitudes))

अतः बातों को सही रूप से जानने और जानकारी के आधार पर अपनी विचारधारा में परिवर्तन कर सकने की क्षमता उत्पन्न करने, जिससे समस्याओं का हल खोजा जा सके, पर्यावरण शिक्षा का आधार बनता है।

कुछ उदाहरण इस संदर्भ में देखें

1. भीड़ (Crowd):

किसी एक शहर के मोहल्ले में, जिसकी आबादी का घनत्व काफी सघन है, काफी सारे लोग एक साथ एकत्रित हो गये हैं अब-

  • (अ) क्या यह सामान्य लोगों का समूह है या वे किसी विशेष प्रयोजन से इकट्ठे हुए हैं?
  • (ब) इनकी वास्तविक मंशा क्या है ?
  • (स) क्या कोई उपद्रव की संभावना है?
  • (द) इसे किस प्रकार संतुलित किया जा सकता है? और
  • (य) आप वहां उपस्थित रह कर क्या कर सकते हैं?

(2) प्राकृतिक संसाधनों की कमी (Diminishing of Natural Sources):

विश्व में महसूस किया जा रहा है कि निरंतर प्रतिदिन प्राकृतिक संसाधनों की कमी होती जा रही है। यह पूरे देशों में अनियंत्रित और अनियोजित योजनाओं के कारण यह समस्या और बढ़ती ही जाती है। तब (अ) किन-किन प्राकृतिक संसाधनों की बात इसमें सम्मिलित है?

  • (ब) प्राकृतिक संसाधनों की आज की स्थिति क्या है?
  • (स) विश्व के विभिन्न देश इनका किस प्रकार उपभोग कर रहे हैं?
  • (द) समस्या का कारण कहां से शुरू हुआ दिखता है?
  • (प) इस समस्या के निवारण का तरीका या सुझाव क्या है?
  • (२) क्या आपकी इसमें कोई सक्रिय भूमिका हो सकती है?
  • (त) शासन से आप क्या अपेक्षा ते हैं?

प्राथमिक शिक्षा से क्या तात्पर्य है?

इन दो उदाहरणों से यह बात स्पष्ट है कि पर्यावरण शिक्षा की समस्या के पीछे वास्तविक तथ्य (Facts) क्या है? आपका इस समस्या को सोचने का तरीका क्या है? और उसका हल कैसे संभव है? पर्यावरण शिक्षा से ही इन समस्याओं का सही समाधान संभव है यही पर्यावरण शिक्षा की संकल्पना / अवधारणा (Concept ) है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here