पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य का वर्णन कीजिये।

0
252

पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य

छात्रों में पर्यावरण के संरक्षण एवं उसके विकास के लिए जागरूकता पैदा करने के लिए विद्यालयों के उद्देश्यों को पुनर्स्थापित करने की आवश्यता है। आज भी शुद्ध सामाजिक पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधनों से हमें अधिकतम लाभ प्राप्त हो रहा है। अतः इसमें विशेष रूप से स्थानीय पारिस्थितिकी प्रणाली के संतुलन को बनाये रखने का कर्तव्य निभाना चाहिए मनुष्य बुद्धिजीवी प्राणी है। अतः उससे आशा की जाती है कि वह प्राकृतिक साधनों को अपनी आवश्यकता के अनुरूप संतुलित करके और उनके वैकल्पिक साधनों को ढूंढ़े जिससे प्राकृतिक साधन नष्ट न होने पाये और पारिस्थितिकी का संतुलन भी बना रहे।

मानव की आवश्यकताओं, प्राकृतिक साधनों के दोहन की क्षमताओं और पर्यावरण के बीच समायोजन होना आवश्यक है। अतः विद्यालयों में मानव एवं पर्यावरण के महत्व को समझते हुए उन दोनों में सामंजस्य स्थापित किया जाना चाहिए क्योंकि इन दोनों को एक व्यवस्था में रखकर ही खुशहाल रहा जा सकता है। छात्रों के समक्ष प्रर्यावरण की विषय वस्तु एवं प्राकृतिक सांसाधनों को इस प्रकार प्रस्तुत किया जाये कि उसके संरक्षण एवं विकस हेतु वे अपना अधिकतम योगदान कर सकें। संतुलित व्यक्तित्व का विकास शुद्ध सामाजिक एवं प्राकृतिक पर्यावरण में ही संभव है।

अतः शुद्ध पर्यावरण को बनाये रखने के लिए विद्यालय के कार्यकाल में ही हमें निम्न उद्देश्यों की पूर्ति करनी चाहिए

  1. हम जिन प्राकृतिक संसाधनों का दोहन कर रहे हैं, उनका पुनः निर्माण नहीं किया जा सकता। इसलिए भविष्य में प्रकृति के संसाधनों के समाप्त प्राय हो जाने की आशंका से छात्रों को अवगत कराना।
  2. विभिन्न प्रकार के व्यक्तियों को प्रकृति के आसपास तथा अलग-अलग रहने से क्या – क्या लाभ और हानि होती है। इसके संबंध में विश्लेषणात्मक ढंग से छात्रों को अवगत कराना।
  3. जल्दी और विलम्बाकारी परिवर्तनों के लाभ तथा हानियों से, छात्रों को अवगत कराना।
  4. व्यक्तिगत बाहरी एवं मूल रूप से मानव, प्राकृतिक साधन और जीव जंतु किस प्रकार एक दूसरे पर निर्भर होते हैं इसका शन कराना।
  5. पारितंत्र को संतुलित बनाय रखने के उद्देश्य से विभिन्न जीवों एवं पेड़ पौधों का पर्यावरण में बना रहना उपादेय है। छात्रों को इसका अवबोध करवाना।
  6. व्यक्तिगत जीवन, समाज एवं मानव जीवन के तौर-तरीकों पर पर्यावरण असंतुलन से क्या-क्या दुष्प्रभाव पड़ सकते हैं उनसे छात्रों को परिचत कराना।

परिवार नियोजन की कमियाँ / बाधाओं का वर्णन कीजिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here