नीति निदेशक तत्वों का महत्व या उपयोगिता ।

नीति निदेशक तत्वों का महत्व

(1) निदेशक तत्वों के पीछे जनमत की शक्ति

इनके पीछे जनमत की सत्ता होती है जो प्रजातन्त्र का सबसे बड़ा न्यायालय है। अत: जनता के प्रति उत्तरदायी कोई भी सरकार इनकी अवहेलना का साहस नहीं कर सकती। शासन द्वारा किया गया इन तत्वों का उल्लंघन देश मे शक्तिशाली विरोध को जन्म देगा।

(2) नैतिक आदर्शों के रूप में महत्व

यदि निदेशक तत्वों को केवल नैतिक धारणाएँ ही मान लिया जाये, तो इस रूप में भी इनका अपार महत्व है। यह आशा की जाती है कि ये निदेशक तत्व भारतीय शासन की नीति को निदेशित और प्रभावित करेंगे।

(3) शासन के मूल्यांकन का आधार

नीति निदेशक तत्वों द्वारा जनता को सन की सफलता-असफलता की जांच करने का मापदण्ड भी प्रदान किया जाता है। इस प्रकार निक तत्व जनता को विभिन्न दलों की तुलनात्मक जांच करने के योग्य बना देंगे।

(4) सामाजिक-आर्थिक क्रान्ति के साधन

सामाजिक-आर्थिक क्रान्ति का मार्ग निदेशक तत्वों में बताया गया है। अतः निदेशक तत्वों को क्रियान्वित करते हुए सामाजिक-आर्थिक क्षेत्र के अन्तर्गत नवीन युग में प्रवेश किया जा सकता है।

प्लेटो के आदर्श राज्य की अवधारणा लिखिए।

(5) संविधान की व्याख्या में सहायक

संविधान के अनुसार निदेशक तत्व देश के शासन में मूलभूत हैं जिसका तात्पर्य यह है कि देश के प्रशासन के लिए उत्तरदायी सभी सत्ताएँ। उनके द्वारा निदेशित होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top