मनोवैज्ञानिक के निर्देशन सम्बन्धी कार्यों की व्याख्या कीजिए।

0
51

विद्यालय में असामान्य बालकों की समस्याओं को जानने, उन्हें समझने तथा उन बालकों मे सुधार करने हेतु मनोवैज्ञानिक की आवश्यकता होती है। बड़े एवं मनोवैज्ञानिक के निर्देशन सम्बन्धी मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं

  1. वैयक्तिक एवं सामूहिक परीक्षाओं का प्रशासन करना।
  2. परीक्षाओं से प्राप्त परिणामों की व्याख्या तथा अर्थापन करना।
  3. अनुसन्धान हेतु बनी योजनाओं को क्रियान्वित करना।
  4. उत्कृष्ट अथवा हीन बालकों का निदान एवं उपचार करना।

समूह के प्रकार बताइये ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here