माध्यमिक विद्यालयों में निर्देशन एवं परामर्श के सम्बन्ध में मुदालियर आयोग के सुझाव

माध्यमिक विद्यालयों में निर्देशन एवं परामर्श आयोग – की दृष्टि में माध्यमिक विद्यालयों के छात्रों के मार्ग प्रदर्शन का निर्देशन आवश्यक है ताकि वे जीवन के विभिन क्षेत्रों के व्यवसायों व कार्यों को भली-भाँति समझ सकें। अतः इस दृष्टि से कमीशन की निम्नलिखित सिफारिशें थीं

  1. शिक्षा अधिकारियों को विद्यार्थियों के शैक्षिक निर्देशन पर अधिक-से-अधिक ध्यान देना चाहिए।
  2. विभिन्न उद्योगों व व्यवसायों के सम्बन्ध में छात्रों को पूर्ण जानकारी दी जाय और इसके लिए उन्हें विभिन्न उद्योगों के कल-कारखानों में ले जायें या उन उद्योगों से सम्बन्धित फिल्में दिखायी जायें।
  3. विद्यालय में प्रशिक्षित निर्देशन अधिकारियों और जीविकोपार्जन शिक्षकों की नियुक्तियाँ की जायें।
  4. उक्त मार्ग-प्रदर्शन अधिकारियों के जीविकोपार्जन और शिक्षकों के प्रशिक्षण की व्यवस्था केन्द्रीय सरकार करे।

ई-लर्निंग की उपयोगिता बताइए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top