लचीले संविधान के गुण-दोषों का वर्णन कीजिये

लचीले संविधान के गुण

(1) लचीला संविधान संकट के साथ-साथ देश की आर्थिक, सामाजिक एवं राजनीतिक परिस्थितियों के साथ बदलता रहता है जिससे देशवासियों के मन का सही प्रतिबिम्ब उभरता है। जिसके कारण इसको राजनीतिक जीवन का सच्चा दर्पण कहा जाता है।

(2) एक लचीले संविधान में ऐसी सुविधा होती है कि देश के संकट काल में देश की शासन व्यवस्था तथा रक्षा के लिए लचीले संविधान को बदला जा सकता है।

(3) लचीले संविधान में परिवर्तनशील परिस्थितियों के अनुसार इसमें उन्नति होती रहती है और लचीले संविधान को सरलता से बदला जा सकता है।

लचीला संविधान के दोष

(1) लचीला संविधान अत्यधिक परिवर्तनशील होने के कारण इसमें राजनीतिक दल अपनी मनमानी करते हैं और यह उनके हाथ की कठपुतली होती है जिसके कारण इसको वह सम्मान नहीं मिलता जितना जनता से प्राप्त होना चाहिए।

(2) लचीला संविधान सिर्फ उन्हीं देश में होना चाहिए जिस देश में जनता को अपने अधिकार व कार्य का पूर्ण ज्ञान हो और जनता राजनीति में रुचि रखती हो जिससे शासक वर्ग के लोगों को नियंत्रित किया जा सके।

यूरोपीय पुनर्जागरण के लक्षण थे

(3) लचीले संविधान में संशोधन बहुत अधिक मात्रा में किए जा सकते हैं और इसमें सरलता से संशोधन होने के कारण संविधान स्थायी नहीं रहता है जिससे राजनीतिक जीवन स्थिर नहीं रहता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top