ई-लर्निंग की विशेषताएं बताइए ।

0
62

ई-लर्निंग की विशेषताएँ : ई-लर्निंग के स्वरूप के आधार पर इसकी निम्नलिखित विशेषताएं होती हैं-

  1. ई-लर्निंग या इलेक्ट्रानिक अधिगम में कम्प्यूटर सेवाओं की अनिवार्य रूप से आवश्यकता होती है।
  2. ई-लर्निंग कम्प्यूटर विज्ञान की इंटरनेट तथा वेब टेक्नोलॉजी पर आधारित ऑन लाइन एजुकेशन है। जिसमें पढ़ने और पढ़ाने के लिए न तो समय का ही कोई बंधन होता है। और न ही किसी स्थान विशेष का महत्व।
  3. इस प्रणाली में शिक्षक तथा छात्र के बीच फेस-टू-फेस इंटरएक्शन का माध्यम ऑन लाइन एवं इंटरनेट टेक्नालॉजी होती. है।
  4. ई-लर्निंग को दृश्य-श्रव्य अधिगम तथा दूरस्थ अधिगम का पर्याय नहीं माना जा सकता। क्योंकि आज दृश्य-श्रव्य तथा बहुमाध्य तकनीकी तथा दूरवर्ती शिक्षा सम्बन्धी कार्यक्रम कम्प्यूटर तथा इंटरनेट एवं वेब सेवाओं पर बहुत कुछ निर्भर हैं किन्तु इन्हें ई-लर्निंग की पर्याय न मानकर इसकी सहायक परिस्थितियाँ माना जा सकता है।
  5. ई-लर्निंग में इंटरनेट या वेब आधारित सम्प्रेषण सेवाओं जैसे- ई-मेल, ऑडियो एवं वीडियो कॉफ्रेंसिंग मेल लिस्ट, लाइव चैटस तथा टेलीफोन का प्रयोग किया जाता है।
  6. ऑन लाइन शिक्षा परम्परागत शिक्षा से काफी सस्ती तथा प्रभावी है। यदि किसी विद्यार्थी का लगभग पचास प्रतिशत लेक्चर छूट गया है वह नहीं देख-सुन पाया है तो प्लेबैंक पर पूरे लेक्चर का लाभ उठा सकता है।
  7. इस प्रणाली का प्रयोग विभिन्न कम्पनियाँ भी अपने स्टाफ को प्रशिक्षण देने के लिए वडे पैमाने पर कर रही हैं।

अस्मिता और समाजीकरण के प्रत्यय को स्पष्ट कीजिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here