Hindi Literature

नारी और फैशन पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना-नारी ही संसार की सृष्टि का प्रमुख आधार है। नारी के बिना तो इस समाज की कल्पना मात्र भी नहीं की जा सकती। नारी के विभिन्न रूप जैसे पत्नी, माता, वहन, भाभी, सेविका, परिचायिका आदि संसार की वास्तविकता का बोध कराते हैं। नारी हर तरह से पुरुष के साथ जुड़ी है तथा पुरुष बिना नारी …

नारी और फैशन पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

भारतवर्ष में लघु व कुटीर उद्योग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना- किसी भी देश में सभी उद्योग एक जैसे नहीं होते। कुछ उद्योग बहुत विशाल पूंजी एवं विद्युत श्रम-शक्ति से चलाए जाते हैं, तो कुछ मध्यम पूँजी और मध्यम श्रम-शक्ति से तथा कुछ सामान्य पूँजी तथा अल्प श्रमशक्ति से इसी आधार पर उद्योगों का विभाजन बृहत् उद्योग, मध्यम उद्योग तथा लघु उद्योग के रूप में …

भारतवर्ष में लघु व कुटीर उद्योग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

छात्र असन्तोष पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना – विन्रमता, आस्था, लगन, परिश्रम, सम्मान, कर्तव्यपरायणता जैसे गुण, जो कभी एक विद्यार्थी के आभूषण माने जाते थे, असन्तोष, अविनय, विक्षोभ, बदले की भावना में परिवर्तित हो चुके हैं। छात्र असन्तोष आज किसी एक देश की सीमा में न रहकर विश्वव्यापी समस्या बन चुका है। आधुनिक संचार साधनों के आविष्कारों से विभिन्न देशों में …

छात्र असन्तोष पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

पशुपालन उद्योग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना – पशुपालन का अर्थ है दुग्ध और मांस प्राप्त करने के लिए पशुओं को पालना। ग्रामीण लोग अधिकतर दुग्ध उत्पादन के लिये पशुओं का पालन करते हैं जिससे प्राप्त आय से किसानों को आर्थिक मदद मिलती है। पशुपालन उद्योग आज भारत का एक प्रमुख उद्योग बन गया है और इसका काफी तीव्र गति से …

पशुपालन उद्योग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

प्लास्टिक युग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना – आज हम विज्ञान के युग में जी रहे हैं। विज्ञान के चमत्कार हमारे लिए वरदान साबित हो रहे हैं, लेकिन कुछ आविष्कार ऐसे भी हैं जो वरदान के साथ-साथ सबसे बड़ा अभिशाप भी बन चुके हैं। हम यह भी कह सकते हैं कि विज्ञान का वरदान या अभिशाप होना हमारे उपयोग पर भी …

प्लास्टिक युग पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

भारत में हरित क्रान्ति पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना- ‘हरित’ अर्थात् ‘हरियाली’ हरा रंग मानव जीवन में अत्यन्त महत्त्वपूर्ण माना जाता है। हरा होना अर्थात् सुखी और समृद्ध होना भी होता है। जब किसी स्त्री को ‘गोद हरी’ होने का आशीर्वाद दिया जाता है, तो उसका अर्थ होता है ‘गोद भरना’ या ‘सन्तानवती इसका अथ यह है कि हमारे देश में हरियाली या …

भारत में हरित क्रान्ति पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

भारतीय संविधान पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना- हम भारतवासियों ने कई सौ वर्षों तक अंग्रेजों के अत्याचार सहन किए हैं; शोषण सहन किए हैं। कितने ही सालों तक अंग्रेजी शासकों ने हम पर शासन किया है, जिसके कारण हम भारतीयों में विद्रोह की भावना ने जन्म ले लिया था। इसीलिए भारतीयों ने अपना तन, मन, धन, सब कुछ न्यौछावर कर पूर्ण …

भारतीय संविधान पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

अन्तर्जातीय विवाह पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए।

प्रस्तावना – ‘अन्तर्जातीय विवाह‘ अर्थात् दूसरी जाति में विवाह । प्राचीन भारत में अन्तर्जातीय विवाह की परम्परा एक स्वस्थ परम्परा समझी जाती थी। ‘स्वयंवर’ भी इसी परम्परा का एक अंग था परन्तु उस काल में इसके प्रतिवाद भी उपलब्ध थे, जैसे द्रोपदी स्वयंवर में कर्ण को हिस्सा लेने की अनुमति नहीं मिल पाई थी क्योंकि …

अन्तर्जातीय विवाह पर संक्षिप्त निबन्ध लिखिए। Read More »

मुन्शी प्रेमचन्द का संक्षिप्त जीवन परिचय बताइए।

मुन्शी प्रेमचन्द का जीवन परिचय – प्रेमचन्द का जन्म सन् 1880 में बनारस जिले में हुआ था। इनका नाम धनपतराय था। बी.ए. तक की शिक्षा प्राप्त करने के उपरान्त अधिकांश समय तक शिक्षा विभाग में सम्मानित पद को सुशोभत करते रहे। आपकी प्रथम हिन्दी कहानी ‘सौत’ सरस्वती के दिसम्बर सन् 1915 के अंक में प्रकाशित …

मुन्शी प्रेमचन्द का संक्षिप्त जीवन परिचय बताइए। Read More »

ममता कालिया का जीवन परिचय लिखिए।

ममता कालिया एक प्रमुख भारतीय लेखिका हैं। वे कहानी, नाटक, उपन्यास, निबंध, कविता और पत्रकारिता अर्थात साहित्य की लगभग सभी विधाओं में हस्तक्षेप रखती हैं। हिन्दी कहानी के परिदृश्य पर उनकी उपस्थिति सातवें दशक से निरन्तर बनी हुई है। लगभग आधी सदी के काल खण्ड में उन्होंने 200 से अधिक कहानियों की रचना की है। …

ममता कालिया का जीवन परिचय लिखिए। Read More »

Scroll to Top