बहुपत्नी विवाह के गुण-दोष लिखिए।

बहुपत्नी विवाह के गुण (1) इसके कारण जनजाति में अच्छे गुणों की संतानों की संख्या में वृद्धि होती है क्योंकि सामान्यतः वही व्यक्ति बहुपत्नी विवाह करने की स्थिति में रहते हैं जो समूह में उच्च पदों पर आसीन हो, अथवा जिनकी आर्थिक स्थिति अपेक्षाकृत सुदृढ़ होती है। (2) परिवार में अनेक खियाँ होने से बच्चों का पालन-पोषण सुविधापूर्वक और अच्छी तरह किया जा सकता है। (3) श्रम विभाजन में सहायता मिलती है जिससे प्राकृतिक संघर्षोंों का सामना करने में पुरुष अधिक क्षमतावान हो जाता है।

प्रतियोगिता का वर्णन कीजिए।

बहुपत्नी विवाह के दोष- (1) इसके परिणामस्वरूप समाज में स्त्रियों की स्थिति में अत्यधिक हास होता | है जिससे बच्चों के व्यक्तित्व का समुचित विकास नहीं हो पाता। (2) ऐसे परिवार अधिकतर कलह, ईर्ष्या और मतभेद के केन्द्र होते हैं क्योंकि सभी पत्नियाँ पुरुष पर अपना एकाधिकार रखने का प्रयत्न करती हैं। (3) यदि उचित रूप से स्त्रियों पर नियंत्रण नहीं रखा जाता है तब पुरुष का जीवन ही विघटित हो जाता है।

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Scroll to Top