अमेरिकी सर्वोच्च न्यायालय की शक्तियाँ?

0
134

अमेरिकी सर्वोच्च न्यायालय की शक्तियाँ निम्नवत है-

क्षेत्राधिकार

अमेरिका सर्वोच्च न्यायालय का क्षेत्राधिकार संधीय न्याय व्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों पर लागू होता है। सर्वोच्च न्यायालय में सभी प्रकार के मुकदमें प्रारम्भिक और मौलिक सुनवाई के लिए आ सकते हैं। साथ ही कांग्रेस द्वारा पारित विभिन्न अधिनियमों पर वैक दृष्टि से पुनर्विचार की शक्ति भी इसे प्राप्त है। सर्वोच्च न्यायालय के कार्यों तथा शक्तियों की विवेचना निम्नवत कर सकते हैं-

(1) प्रारम्भिक क्षेत्राधिकार

सर्वोच्च न्यायालय का क्षेत्राधिकार अधिक विस्तृत नहीं है परन्तु यह निम्नलिखित विषयों से सम्बन्धित मुकदमों की सुनवाई सीधे कर सकती है। जैसे-

  • वह सभी मामले जो राजदूतों, सार्वजनिक अधिकारियों और दैत्य अधिकारियों से सम्बन्धित हो।
  • वह सभी मामले जिनमें राज्य एक पक्ष हो।

(2) अपीलीय क्षेत्राधिकार

अपीलीय क्षेत्राधिकार के अंतर्गत ऐसे सभी मुकदमें आते हैं जिनकी अपील सर्वोच्च न्यायालय में की जा सकती है न्यायालय में अपील के रूप में आने वाले मुकदमों को दो श्रेणियों में रखा जाता है- प्रथम वह मुकदमें जिनका अपील नीचे के संघीय न्यायालयों से सर्वोच्च न्यायालय में की जा सकती है, अमेरिका में केवल संवैधानिक मामलों की अपील ही सर्वोच्च न्यायालय के सम्मुख हो सकती है। द्वितीय राज्य के उच्चतम न्यायालयों के निर्णयों के विरुद्ध भी अपील सर्वोच्च न्यायालय में की जा सकती है, पर ऐसा तभी सम्भव है जब मुकदमों का सम्बन्ध संघीय संविधान, विधि अथवा सन्धि से हो, कांग्रेस विधि द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के अपील क्षेत्राधिकार में परिवर्तन कर सकती है।

संविधान संशोधन की प्रक्रिया को स्पष्ट करते हुए अमेरिकी संविधान में हुए संशोधनों पर प्रकाश डालिए।

(3 ) न्यायिक पुनर्विलोचन की शक्ति या अधिकार

न्यायिक पुनर्विचार के रूप में सर्वोच्च न्यायालय की सबसे महत्वपूर्ण शक्ति प्राप्त है और इसके अंतर्गत प्रारम्भिक तथा अपीलीय दोनों प्रकार के मुकदमें आ जाते हैं, न्यायिक पुनर्विचार के अंतर्गत सर्वोच्च न्यायालय. का कार्य यह देखना है कि संघ अथवा राज्य व्यवस्थापिका द्वारा कोई ऐसा अधिनियम पारित न किया जाए अथवा संघीय या राज्य की कार्यपालिका द्वारा कोई ऐसा निर्देश नहीं दिया जाए जो संघीय संविधान की भाषा अथवा भावना के अनुकूल नहीं हो।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here