सामाजिक समस्या की अवधारणा, अर्थ एवं परिभाषा।Concept of Social Problem-Meaning and Definition

0
504

सामाजिक समस्या की अवधारणा अर्थ एवं परिभाषा (Concept of Social Problem-Meaning and Definition)

एक सामाजिक समस्या की अवधारणा में तीन तत्व पाये जाते हैं: प्रथम सामाजिक समस्या एक ऐसी दशा है जिसमें सापेक्ष रूप से काफी लोग उलझे होते हैं, द्वितीय इस दशा को अधिकांश लोगों की मूल्य व्यवस्था की दृष्टि से समाज के कल्याण के लिए खतरा समझा जाता है तृतीय यह मानकर चला जाता है कि सामूहिक प्रयास के द्वारा इस दशा को नियंत्रित किया जा सकता है। यहाँ हमें इस बात को भी ध्यान में रखना है कि एक सामाजिक समस्या वस्तुनिष्ठ दृष्टि से (यथार्थ में) मौजूद हो सकती है, किंतु वह व्यक्तिपरक ढंग से अस्तित्व में नहीं आ सकती जब तक कि समाज के बहुत से लोग उसके प्रति जागरूक न हों। अतः यह कहा जा सकता है कि एक सामाजिक समस्या का अस्तित्व उसके प्रति जनता में जागरूकता पर निर्भर करता है। उस समस्या को हल करने के प्रयत्न इस बात पर निर्भर करते है कि उसके विरुद्ध जनमत को कितने प्रभावशाली ढंग से संगठित किया जाता है।

इसे भी पढ़ें 👉 महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी अधिनियम कब पारित किया गया? विस्तृत वर्णन

सामाजिक समस्या की परिभाषा (Definition of Social Problem)

एक सामाजिक समस्या समाज की कोई भी ऐसी सामाजिक दशा है जिसे समाज के एक बहुत बड़े भाग या शक्तिशाली भाग द्वारा अवांछनीय और ध्यान देने योग्य समझा जाता है।

शेयर्ड तथा वॉस

सामाजिक समस्या का तात्पर्य किसी ऐसी सामाजिक परिस्थिति से है जो एक समाज में काफी संख्या में योग्य अवलोकनकर्ताओं के ध्यान को आकर्षित करती है। और सामाजिक अर्थात सामूहिक, किसी एक अथवा दूसरे किस्म की क्रिया के द्वारा पुनः सामंजस्य या हल के लिए उन्हें आग्रह करती है।

क्लेरेंस मार्शकेस

मानवीय सम्बन्धों से सम्बन्धित एक समस्या माना है जो समाज के लिए गंभीर खतरा पैदा करती है अथवा जो व्यक्तियों की महत्वपूर्ण आकांक्षाओं की प्राप्ति में बाधाएं उत्पन्न करती है।

राव तथा सेल्जनिक

इसे भी पढ़ें 👉 आधुनिकीकरण,आधुनिकीकरण की परिभाषा तथा इसकी विशेषताएँ।Modernization

व्यक्तिगत समस्या और सामाजिक समस्या में अंतर (Difference between Individual Problem and Social Problem)

सामाजिक समस्या को और अधिक स्पष्ट रूप से समझने के लिए व्यक्तिगत व सामाजिक समस्या में अंतर को जान लेना आवश्यक है।

व्यक्तिगत समस्या उस समस्या को कहते है जिसका संबंध व्यक्ति विशेष से होता है और जो व्यक्ति के विकास एवं प्रगति में बाधक होती है, व्यक्ति सामाजिक आदर्शों की अवहेलना करने लगता है और उसके व्यक्तित्व का विघटन होने लगता है।

मॉवरर लिखते है, “व्यक्तिगत समस्याएं व्यक्ति के उन व्यवहारों का प्रतिनिधित्व करती है जो संस्कृति द्वारा मान्यता प्राप्त प्रतिमानों से इतने अधिक नीचे गिर जाते है कि समाज उन्हें अस्वीकृत कर देता है।” व्यक्तिगत समस्या एवं सामाजिक समस्या में प्रमुख अंतर निम्नलिखित है:-

इसे भी पढ़ें 👉 भारत में सामाजिक उद्विकास के कारक।Factors of social development in India.

  1. व्यक्तिगत समस्या का हल करने का प्रयत्न व्यक्तिगत रूप से किया जाता है जबकि सामाजिक समस्या के निवारण के लिए सामूहिक रूप से प्रयत्न किये जाते है।
  2. व्यक्तिगत समस्या व्यक्ति के विकास में किंतु सामाजिक समस्या विकास और प्रगति दोनों में बाधक होती है।
  3. व्यक्तिगत समस्या व्यक्ति के साथ ही समाप्त हो जाती है जबकि सामाजिक समस्या समाज की निरंतरता से संबंधित होने के कारण लम्बे समय तक चलती रहती है। इसके निवारण के प्रयत्न के बावजूद भी यह कुछ न कुछ मात्रा में अवश्य मौजूद रहती है।
  4. व्यक्तिगत समस्या के जन्म के लिए एक व्यक्ति या कुछ व्यक्ति उत्तरदायी होते है और उसके परिणाम व्यक्ति विशेष को ही भुगतने होते हैं, जबकि सामाजिक समस्या को जन्म देने में समाज व समुदाय के कई लोगों का हाथ होता है और उसके परिणाम भी अनेक लोगों को भुगतने होते हैं।
  5. व्यक्तिगत समस्या का संबंध एवं प्रभाव क्षेत्र व्यक्ति विशेष तक सीमित रहता है जबकि सामाजिक समस्या का संबंध संपूर्ण समाज व समुदाय से है तथा यह संपूर्ण समाज या उसके एक बड़े भाग को प्रभावित करती है।
  6. व्यक्तिगत समस्या के दौरान व्यक्ति के व्यक्तित्व में असंतुलन एवं विघटन उत्पन्न हो जाता है जबकि सामाजिक समस्या की स्थिति में सामाजिक संरचना।
  7. व्यक्तिगत समस्या की स्थिति में अपने उद्देश्यों एवं आवश्यकता की पूर्ति के लिए व्यक्ति समाज द्वारा अस्वीकृत साधनों का उपयोग करता है जबकि सामाजिक समस्या की स्थिति में समाज के अधिकांश व्यक्ति अनैतिक साधनों के द्वारा अपने उद्देश्यों व आवश्यकताओं की पूर्ति करने लगते हैं।

उपर्युक्त वर्णित अंतरों का यह अर्थ नहीं लगाना चाहिए कि ये दोनों समस्याएं एक-दूसरे से एकदम पृथक है बल्कि दोनों में घनिष्ठ संबंध पाया जाता है, ये दोनों प्रकार की समस्याएं एक दूसरे को प्रभावित करती है। कुछ समस्याएं व्यक्तिगत एवं सामाजिक दोनों ही हो सकती है, विशेषतः उस समय जब उनका संबंध व्यक्ति विशेष व समाज दोनों से ही हो। व्यक्तिगत समस्या सामाजिक समस्याओं को और जन्म देती है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here