समाजशास्त्र और राजनीतिशास्त्र के मध्य सम्बन्धों को स्पष्ट कीजिए।

0
15

समाजशास्त्र और राजनीतिशास्त्र के मध्य सम्बन्धों

समाजशास्त्र और राजनीतिशास्त्र के मध्य घनिष्ठ सम्बन्ध है। राजनीतिशास्त्र के अन्तर्गत कानून, राज्य संप्रभुता एवं प्रशासन आदि का अध्ययन किया जाता है। परन्तु किसी भी देश की राजनीतिक प्रक्रिया यहाँ की सामाजिक परिस्थितियों एवं संस्कृति से जुड़ी होती है अतः समाजशास्त्र का राजनीतिशास्त्र से • गहरा सम्बन्ध है। मैक्स वेबर एवं परेटो (Pareto) ने कुछ राजनीतिक प्रक्रियाओं का समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से अध्ययन किया है, जिससे इनके बीच गहरा सम्बन्ध होने का आभास मिलता है।

राजनीतिक व्यवस्था काफी हद तक हमारी सामाजिक व्यवस्था की देन होती है। विश्व के विभिन्न देशों में प्रजातंत्र सफल नहीं हो पाया है। पड़ोसी देशों में भी तानाशाही देखने को मिलती है, परंतु

भारत के मूल्य प्रतिमान आदि कुछ ऐसे रहे हैं जो प्रजातांत्रिक व्यवस्था के पक्ष में अधिक जाते हैं। आधुनिक भारत की राजनीतिक प्रक्रियाएँ काफी हद तक सामाजिक परिस्थितियों से संचालित है। मतदान व्यवहार में जाति का योगदान तथा अन्य सामाजिक कारणों का योगदान जैसे क्षेत्रीयता, सामाजिक पिछड़ापन आदि यह सिद्ध करते हैं कि राजनीतिक प्रक्रियाएँ सामाजिक परिस्थितियों से प्रभावित होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here