संस्था तथा समिति का अर्थ एवं परिभाषा लिखिये।

0
35

संस्था का अर्थ

संस्था सामाजिक नियमों तथा कार्यप्रणालियों की उस व्यवस्था का नाम है जो सामाजिक मूल्यों के अनुसार व्यक्तियों को अपने उद्देश्यों को पूरा करने की अनुमति देती है। कुछ विद्वानों ने संस्था की परिभाष इस प्रकार दी है

  1. रॉस-“सामाजिक संस्थाएँ संगठित मानवीय सम्बन्धों की यह व्यवस्था है जो सामान्य इच्छा द्वारा स्थापित या स्वीकृत होती है।”
  2. मैरिल और एलरिज “सामाजिक संस्थाएँ आचरण के ये प्रतिमान है, जो मनुष्य की मुख्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए निर्मित हुए है।”
  3. मैकाइवर और पेज “मूहिक क्रिया की विशेषता बतलाने वाली कार्य-प्रणाली के स्थापित रूप या अवस्था को ही हम संस्था कहते हैं।”

संस्था तथा समिति में अन्तर बताइए।

समिति का अर्थ

जब कुछ व्यक्ति किसी निश्चित उद्देश्य को लेकर सहयोग के आधार पर एक संगठन का निर्माण करते हैं तब व्यक्तियों के इसी संगठन को हम समिति कहते हैं। समिति को विद्वानों ने परिभाषा द्वारा स्पष्ट किया है जो निम्नलिखित हैं

  1. बोगार्डस “साधारणतया किसी उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए मिल-जुलकर कार्य करने वाले व्यक्तियों के समूह को समिति कहा जाता है।”
  2. मैकाइवर और पेज “एक समिति व्यक्तियों का कोई भी वह समूह है जो किसी उद्देश्य अथवा उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए संगठित होता है।”
  3. गिलिन और गिलिन “समितिव्यक्तियों का समूह है जो कुछ निश्चित उदेश्य अकादे को पूरा करने के लिए संगठित होता है तथा कुछ मान्यता प्राप्त कार्य-प्रकृति के द्वारा कार्य करता है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here