संस्कृति का शिक्षा का प्रभाव डालिए।

0
67

शिक्षा पर संस्कृति का प्रभाव-

शिक्षा और संस्कृति में घनिष्ठ सम्बन्ध है। समाज की जैसी संस्कृति होती है उसी के अनुरूप शिक्षा की व्यवस्था की जाती है। दूसरे शब्दों में शिक्षा की रूपरेखा का निर्माण समाज की संस्कृति के अनुसार होता है। उदाहरण स्वरूप यह समाज की संस्कृति में धर्म और आध्यात्मिक भावना प्रधान होती है तो शिक्षा शाश्वत मूल्यों के प्राप्ति पर बल देती है। इसके विपरीत यदि समाज की संस्कृति का स्वरूप भौतिक होता है तो शिक्षा द्वारा भौतिक उद्देश्यों की प्राप्ति का प्रयास किया जाता है। इसके अतिरिक्त जिस समाज की कोई संस्कृति नहीं होती उसकी शिक्षा का स्वरूप भी अनिश्चित होता है। स्पष्ट है कि शिक्षा संस्कृति से प्रभावित होती है। शिक्षा के सभी अंगों, जैसे उद्देश्य, पाठ्यक्रम, अनुशासन आदि पर संस्कृति का प्रभाव पड़ता है।

अन्तर्राष्ट्रीय सद्भावना के विकास का एकमात्र साधन शिक्षा है’ उपर्युक्त कर को स्पष्ट कीजिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here