शैक्षिक नवाचार एवं शिक्षा के नूतन आयामों की विवेचना कीजिए।

शैक्षिक नवाचार एवं शिक्षा के नूतन आयाम

परिवर्तित अवस्थाओं में आवश्यकताओं और आकांक्षाओं के अनुरूप शिक्षा प्रणाली में सकारात्मक परिवर्तनों को शैक्षिक नवाचार में शामिल करते हैं। इसके अन्तर्गत बदलावों के फलस्वरूप जिस प्रकार के शैक्षिक कार्यक्रमों, पाठ्यक्रमों, नीतियों, शैक्षिक विचारों को अंगीकृत करते हैं उन्हें शिक्षा के नवीन आयाम कहते है।

शिक्षा के नूतन आयाम वैज्ञानिक, मनोवैज्ञानिक व ज्ञान विज्ञान में नयी खोजों की प्रवत्तियों पर आधारित नया शैक्षिक कार्यक्रम होता है।

मानव का दृष्टिकोण, वैज्ञानिक व तकनीकी प्रगति के कारण भौतिकतावादी है। शिक्षा के नूतन आयामों का निर्माण परिवर्तन के कारण होता है। वैज्ञानिक उपकरणों के आविष्कारों जैसे । इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, अन्तरिक्ष सम्बन्धी शोध, जनसंख्या के साधन, स्वचालित यन्त्रों तथा तकनीकी ज्ञान के विस्तार से मानव की जीवन शैली, रहन-सहन जीवन के प्रति दृष्टिकोण से विस्तृत बदलाव आया है। इन परिवर्तनों के कारण नवीन चुनौतियाँ व समस्याएँ पैदा हो रही हूँ। जैसे-जनसंख्या वृद्धि, उपभोक्तावादी संस्कृति का प्रादुर्भाव इत्यादि । कम्प्यूटर के प्रयोग व सूचना क्रान्ति के कारण दुनिया सिमटती जा रही है जिससे मानव के जीवन में क्रान्तिकारी बदलाव हुए हैं।

समाज का अर्थ एवं परिभाषा लिखिए।

सामाजिक राजनीतिक क्षेत्रों में समाजवाद व लोकतन्त्र जैसी पद्धतियों का विकास हुआ है। जिसके स्वरूप मानवीय गरिमा को नयी प्रतिष्ठा प्रदान की है। समाज में सर्वधर्म समभाव, समाज में स्वतन्त्रता, समानता व मैत्री आदि मानवीय गुणों को प्रोत्साहित किया है। समाज में वैयक्तिक क्रियाशीलता की अपेक्षा सामाजिक क्रियाशीलता को विशेष महत्व मिला है। जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में हो रहे बदलाव के कारण शिक्षा क्षेत्र में नवीन चिन्तन नवीन संरचना तथा नवीन समाधानों की जरूरत महसूस की गई है। यह सर्वविदित है कि परिवर्तन की इस घड़ी में शिक्षा अधिक उपयुक्त माध्यम है। इसलिए शिक्षा की प्रवृत्तियों, नीतियों तथा संरचना में परिवर्तन की प्रक्रिया शुरू हुई है। तत्कालीन समस्याओं के हल हेतु शिक्षा में नवीन आयाम शामिल किये जा रहे है। निरक्षरता के निराकरण के लिए अनौपचारिक शिक्षा एवं सतत् शिक्षा जैसे कार्यक्रमों की शुरूआत की गई है। जनसंख्या की समस्या के निराकरण हेतु जनसंख्या शिक्षा पर्यावरण हेतु पर्यावरण शिक्षा प्रचलित हुई है। शिक्षा की व्यापकता के लिए विशिष्ट जानकारी प्रदान की जाती है। इसका उद्देश्य छोटे परिवार के विषय में लोगों में उचित दृष्टिकोण को विकसित करना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top