प्रजा के मूल सिद्धांतो पर प्रकाश डालिये।

0
34

प्रजा के मूल सिद्धांत – प्रजातांत्रिक शिक्षा के निम्नलिखित सिद्धांत है-

  1. प्रजातंत्रात्मक शिक्षा का एक मात्र उद्देश्य सबका हित करना है।
  2. प्रजातंत्रात्मक शिक्षा सबको शिक्षा प्राप्त करने का समान अधिकार देती है।
  3. प्रजातंत्रात्मक शिक्षा आधारभूत स्वतंत्राओं की रक्षा करती है।
  4. प्रजातंत्रात्मक शिक्षा में कक्षा, व्यवस्था, छात्र-शिक्षक संबंध तथा विद्यालय संगठन सब प्रजातंत्र के आधार पर होता है
  5. शिक्षा सब की बुद्धि का प्रयोग करती है।
  6. यह सहयोग एवं बंधुत्व का पाठ पढ़ाती है।

(1) व्यक्तिगत स्वतंत्रता का सिद्धांत

प्रत्येक व्यक्ति की शिक्षा ग्रहण करने का विचार प्रकट करने की मत देने की तथा अपने उत्तरदायित्व को स्वीकार करने की स्वतंत्रता होनी चाहिए।

(2) समानता का सिद्धांत

प्रत्येक व्यक्ति को समान अधिकार प्राप्त होने चाहिए। जिससे वह अपने व्यक्तित्व का विकास कर सके।

(3) अधिकारों में कर्म निहित होने के सिद्धांत

प्रत्येक व्यक्ति के अधिकारों में दूसरों के कर्तव्य निहित होने चाहिए। जैसे किसी एक व्यक्ति को शिक्षा पाने का अधिकार है तो दूसरे का कर्तव्य है कि उसे शिक्षा में अर्थात् प्रत्येक व्यक्ति दूसरे के हितों में अपना हित समझे।

(4) लोक कल्याण के पारस्परिक सहयोग द्वारा प्रयत्न का सिद्धांत

प्रत्येक व्यक्ति का यह कर्तव्य है कि वह संपूर्ण की भलाई के लिए सतत प्रयत्नशील रहे।

धार्मिक स्वतन्त्रता के अधिकार का वर्णन कीजिए।

(5) बौद्धिक स्वतंत्रता में विश्वास का सिद्धांत

मानव स्वतंत्रता संबंधी घोषणा के अनुसार व्यक्ति को अपनी सम्मतियों को देने और विचार व्यक्त करने का अधिकार है इस अधिकार के अंतर्गत दूसरों से मत लेने और बिना प्रतिबंध के अपने विचार एवं आदर्श को किसी माध्यम से व्यक्त करना है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here